Connect with us

Big breaking:-डायट डीएलएड प्रशिक्षितों ने किया विधानसभा कूच, नंगे पैर चलकर व काली पट्टी बांधकर किया सरकार का विरोध।

उत्तराखंड

Big breaking:-डायट डीएलएड प्रशिक्षितों ने किया विधानसभा कूच, नंगे पैर चलकर व काली पट्टी बांधकर किया सरकार का विरोध।

प्राथमिक शिक्षक भर्ती 2020 को पूरी करने की अपनी मांग को लेकर निदेशालय में विगत 21 दिनों धरनारत डायट डीएलएड प्रशिक्षितों ने आज विधानसभा कूच किया।
प्रशिक्षितों हाथ में काली पट्टी बांधकर बन्नू इंटर कॉलेज से नंगे पैर चलकर विधानसभा अपने बैनर तले पूरे संख्याबल के साथ जोर शोर से नारेबाजी करते हुए विधानसभा पहुंचे।


डायट संघ सचिव हिमांशु जोशी ने बताया कि हम डायट डीएलएड प्रशिक्षितों की प्राथमिक शिक्षक भर्ती कुछ तथाकथित संगठन के कारण माननीय उच्च न्यायालय में लंबित है। हमारी मांग है कि सरकार व विभाग इसपर त्वरित संज्ञान लेकर महाधिवक्ता से उच्च न्यायालय में डायट वादों की ठोस पैरवी करवाये ताकि भर्ती शीघ्र अति शीघ्र पूरी करें।

और आगे बताते हुए उन्होंने बोला कि डायट संगठन तब तक यहां से नहीं उठेगा जब तक सरकार पक्ष से स्वयं संज्ञान लेने हमारे पास नहीं पहुंचता।

यह भी पढ़ें -  चारधाम यात्रा जाने वाले श्रद्धालु ध्यान दें, यूनियनों ने बसों के किराये में 20 फीसदी की करी बढ़ोतरी, ₹600 चुकाने पड़ेंगे अतिरिक्त

विधानसभा रैली में आप पार्टी प्रदेश प्रवक्ता उमा शिशोदिया ने रैली में डायट प्रशिक्षितों के साथ चलकर अपना पूर्ण समर्थन दिया। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कटु शब्दों में सरकार की आलोचना की और बोला कि शिक्षा जैसा मुद्दा सरकार की प्राथमिकता में होना चाहिए था परंतु ये सरकार की असफलता ही कही जाएगी कि 3 3 मुख्यमंत्री बदल जाने के उपरांत और 5 वर्ष बीत जाने के कारण भी डायट प्रशिक्षितों को नियुक्ति नहीं दी गयी।।

मुझे दुःख होता है कि जो शिक्षक विद्यालयों में होने चाहिए थे वे सड़कों पर दर दर मजबूर है। ये आपके साथ हो रहा अन्याय किसी भी प्रकार से उचित नहीं है और मैं मीडिया के माध्यम से सरकार के समक्ष अपनी बात रखती हूं कि इन प्रशिक्षितों को जल्दी से जल्दी नियुक्ति प्रदान कीजिये जो इनका हक़ है वो इन्हें मिलना चाहिए।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड काशीपुर के दरोगा पर दबंगों ने किया जानलेवा हमला

प्रदेश मीडिया प्रभारी प्रकाश दानू बताया कि हम डायट से दो वर्ष का प्रशिक्षण प्राप्त प्रशिक्षित है जिन्होंने दिसम्बर 2019 में अपना विभागीय प्रशिक्षण पूर्ण किया था। आज तक के इतिहास में कभी भी डायट से प्रशिक्षण प्राप्त प्रशिक्षित घर पर बेरोजगार नहीं बैठा अपितु प्रशिक्षण के 6 माह के उपरांत उन्हें नियुक्ति मिल जाती है परंतु हमारा 2017-19 बैच ही अकेला बैच है जिसे 19 माह से अधिक समय बीत जाने के बाद भी नियुक्ति नहीं मिल रही।
ये पूरी तरह से सत्ता पक्ष की असफलता है कि उन्होंने शिक्षा जैसे प्राथमिक मुद्दों को प्राथमिकता से कोसो दूर रखा है।।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में मसहूस हुए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 4.6 रही तीव्रता


प्रशिक्षित तनुजा नेगी ने बताया कि विगत 2 दिन पहले माननीय शिक्षा मंत्री जी जब नवोदय विद्यालय नन्नूरखेरा में आए थे तो डायट डीएलएड की महिला प्रशिक्षितों ने शिक्षा मंत्री को राखी बांधकर अपनी नियुक्ति की मांग की थी तब शिक्षा मंत्री जी ने हमें आश्वासन दिया था कि 1 सितम्बर को होने वाली सुनवाई मे हम सारे न्यायालयी प्रकरणों को बंच करके सुनवाई पूरी करने का प्रयास करेंगे ताकि जल्द से जल्द प्राथमिक शिक्षक भर्ती को पूर्ण करके डायट डीएलएड प्रशिक्षितों को नियुक्त प्रदान की जा सके।
डायट डीएलएड प्रशिक्षितों की रैली का हुजूम पुलिस प्रशासन द्वारा विधानसभा से थोड़ी दूर पूर्व रोका गया। जहाँ पर डायट डीएलएड संगठन ने अपना ज्ञापन सरकार को सौंपा।

Continue Reading
Click to comment
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

More in उत्तराखंड

Like Our Facebook Page

Latest News