Connect with us

Uttarakhand: राज्य में 20 हजार से ज्यादा स्थलों पर लोग देखेंगे रामलला का प्राण प्रतिष्ठा समारोह, ये है योजना

उत्तराखंड

Uttarakhand: राज्य में 20 हजार से ज्यादा स्थलों पर लोग देखेंगे रामलला का प्राण प्रतिष्ठा समारोह, ये है योजना

उत्तराखंड में विभिन्न मंदिरों समेत 20 हजार से अधिक स्थलों पर विशाल एलईडी स्क्रीन पर प्राण प्रतिष्ठा समारोह का सीधा प्रसारण देखने की व्यवस्था की जा रही है। रामलला के विराजमान होने पर शाम को दीपोत्सव मनेगा। घरों मंदिरों व सार्वजनिक स्थलों पर दीप प्रज्ज्वलित किए जाएंगे। साथ ही घरों प्रतिष्ठानों व सार्वजनिक स्थलों पर विशेष सजावट की जाएगी। अयोध्या में बन रहे भव्य श्रीराम मंदिर में 22 जनवरी को होने वाले भगवान श्रीराम के बाल रूप नूतन विग्रह के प्राण प्रतिष्ठा समारोह से संपूर्ण देवभूमि भी जुड़ेगी। राज्य में इन दिनों विश्व हिंदू परिषद समेत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के 32 आनुषांगिक संगठन राम काज में जुटे हैं।

अयोध्या में पूजित अक्षत, श्रीराम मंदिर का चित्र और रामलला के विराजमान होने संबंधी पत्रक घर-घर वितरित किए जा रहे हैं। साथ ही, प्राण प्रतिष्ठा समारोह का सीधा प्रसारण देखने के लिए भी कार्ययोजना तैयार कर ली गई है। उत्तराखंड में विभिन्न मंदिरों समेत 20 हजार से अधिक स्थलों पर विशाल एलईडी स्क्रीन पर इस समारोह का सीधा प्रसारण देखने की व्यवस्था की जा रही है। रामलला के विराजमान होने पर शाम को दीपोत्सव मनेगा।भगवान श्रीराम के नूतन बाल रूप विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर समूचे उत्तराखंड में वातावरण राममय होने लगा है। विश्व हिंदू परिषद की अगुआई में इन दिनों राज्यभर में जगह-जगह कलश यात्राएं, घर संपर्क कर पूजित अक्षत वितरण जैसे कार्य चल रहे हैं। 15 जनवरी तक यह क्रम चलेगा। साथ ही, 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा समारोह का सीधा प्रसारण सामूहिक रूप से देखने को कार्ययोजना तैयार कर ली गई है।

यह भी पढ़ें -  जीत के बाद अनिल बलूनी ने लिया मां गंगा का आशीर्वाद, परिवार संग की पूजा अर्चना

विश्व हिंदू परिषद के प्रांत संगठन मंत्री अजय के अनुसार उत्तराखंड में 16 हजार से अधिक गांवों और सभी 105 शहरों में लोग प्राण प्रतिष्ठा समारोह का सीधा प्रसारण देखेंगे। ये कार्यक्रम मंदिर केंद्रित होने के साथ ही सार्वजनिक स्थलों में भी एलईडी स्क्रीन की व्यवस्था की जाएगी। इन स्थलों की संख्या 20 हजार से अधिक है।रूपरेखा इस तरह से बनाई गई है कि रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के दिन सुबह से ही मंदिरों समेत इन सभी स्थलों पर सुंदरकांड पाठ, कीर्तन-भजन के कार्यक्रम होंगे, जो दोपहर 12 बजे तक चलेंगे। इसके बाद दोपहर 12 से एक बजे तक सभी लोग प्राण प्रतिष्ठा समारोह का सीधा प्रसारण देखेंगे।

यह भी पढ़ें -  मुख्यमंत्री धामी ने श्रदालुओं से की अपील: चारधाम यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन में मिली तिथि के अनुसार ही दर्शन के लिए आयें

अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होने के बाद 22 जनवरी की शाम को देशभर की भांति उत्तराखंड में भी दीपोत्सव मनाया जाएगा। घरों, मंदिरों व सार्वजनिक स्थलों पर दीप प्रज्ज्वलित किए जाएंगे। साथ ही, घरों, प्रतिष्ठानों व सार्वजनिक स्थलों पर विशेष सजावट की जाएगी। विश्व हिंदू परिषद के प्रांत संगठन मंत्री अजय के अनुसार इस सिलसिले में व्यापार मंडल समेत अन्य संगठनों व रामभक्तों से वार्ता हो चुकी देवभूमि से 258 संत होंगे शामिल विश्व हिंदू परिषद के प्रांत संगठन मंत्री ने बताया कि 22 जनवरी को अयोध्या में होने वाले प्राण प्रतिष्ठा समारोह में देवभूमि उत्तराखंड से 258 संत भी शामिल होंगे। इनमें सभी अखाड़ों के अध्यक्ष, महामंत्री, कोठारी, आचार्य महामंडलेश्वर हैं। यही नहीं, राज्य के 13 अन्य विशिष्ट जन भी समारोह में आमंत्रित किए गए हैं।

यह भी पढ़ें -  चुनाव संपन्न होने के बाद अब विकास कार्यों को लगेंगे पंख, आचार संहिता का बेरियर हटा

 

Continue Reading

More in उत्तराखंड

Like Our Facebook Page

Latest News

Author

Author: Shakshi Negi
Website: www.gairsainlive.com
Email: [email protected]
Phone: +91 9720310305