Connect with us

बच्चों ने अनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथों से बना खाना खाने से किया मना तो फिर हुआ कुछ ऐसा…

उत्तराखंड

बच्चों ने अनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथों से बना खाना खाने से किया मना तो फिर हुआ कुछ ऐसा…

बच्चों ने अनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथों से बना खाना खाने से किया मना, स्कूल ने काटी टीसीअनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथों से बना खाना खाने से मना करने के बाद प्रधानाचार्य और कुछ शिक्षकों ने बच्चों को समझाने का प्रयास किया लेकिन बच्चों ने घरेलू कारणों की दलील देकर खाना खाने से मना कर दिया।

नाम काटने की धमकी देते हुए कुछ बच्चों की टीसी भी काटी गई।सूखीढांग के जीआईसी में मध्यान्ह भोजन योजना (एमडीएम) विवाद फिर शुरू हो गया है। छठीं से आठवीं कक्षा के सात से दस बच्चे अनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथों बनाया खाना नहीं खा रहे हैं। आरोप है कि सवर्ण जाति के ये बच्चे जातिगत कारणों से भोजन का बहिष्कार कर रहे हैं।आरोप है कि चेतावनी देते हुए स्कूल प्रशासन ने कुछ बच्चों की टीसी (स्थानांतरण प्रमाणपत्र) भी काटी। इस मामले को सुलझाने के लिए प्रधानाचार्य प्रेम सिंह ने गुरुवार को अभिभावकों की बैठक बुलाई लेकिन इसमें कोई नतीजा नहीं निकला।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: ‍उत्तरकाशी में यमुनोत्री हाईवे पर भूस्खलन, 4200 तीर्थयात्री फंसे

जीआईसी में इस सप्ताह के पहले चार दिनों में सात से दस सवर्ण बच्चों ने भोजन करने से इन्कार कर दिया।जानकारी मिलने पर प्रधानाचार्य और कुछ शिक्षकों ने बच्चों को समझाने का प्रयास किया लेकिन बच्चों ने घरेलू कारणों की दलील देकर खाना खाने से मना कर दिया। नाम काटने की धमकी देते हुए कुछ बच्चों की टीसी भी काटी गई।

यह भी पढ़ें -  शिक्षा विभाग के लिए बड़ी खबर, शिक्षकों को ई टैब देने के लिए 10-10 हजार राशि की स्वीकृति

स्कूल प्रशासन ने छात्रों को अभिभावकों के आने और भोजन न करने तक स्कूल आने से रोक लगा दी। गुरुवार को हुई बैठक में अभिभावकों ने भोजन न करने की वजह जातिगत न बताते हुए निजी बताई लेकिन लंबी बैठक के बावजूद मामला अनसुलझा रहा। स्कूल में दो सवर्ण और एक दलित भोजनमाता है।

Continue Reading
Click to comment
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

More in उत्तराखंड

Like Our Facebook Page

Latest News