Connect with us

क्रिकेट खेलने के नियमों में दिखेंगे बदलाव, MCC ने किया ऐलान

उत्तराखंड

क्रिकेट खेलने के नियमों में दिखेंगे बदलाव, MCC ने किया ऐलान

इंटरनेशनल क्रिकेट के लिए नियम बनाने का काम मेरिलबोन क्रिकेट क्लब यानी एमसीसी का है. एमसीसी के सुझावों के आधार पर ही इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी आईसीसी नियम लागू करती है. एमसीसी ने एक बार फिर से नियमों में बदलाव करने के सुझाव दिए हैं और एक अक्टूबर 2022 यानी ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप 2022 से पहले इंटरनेशनल क्रिकेट के कई नियम बदल जाएंगे. कुछ ऐसे नियम भी हैं, जो अक्टूबर 2017 में लागू किए गए थे, उनमें बदलाव किए गए हैं.

एमसीसी ने इंटरनेशनल क्रिकेट के नियमों में संशोधन का ऐलान कर दिया है, लेकिन इनको अक्टूबर के बाद ही लागू किया जाएगा. हालांकि, बीच के समय में संबंधित जानकारी को एमसीसी द्वारा अद्यतन किया जाएगा ताकि वैश्विक स्तर पर अंपायर और ऑफिशियल्स की ट्रेनिंग में सहायता की जा सके. परिवर्तनों का उद्देश्य क्रिकेट के खेल को वैसा ही आकार देना है, जिस तरह से इसे खेला जाना चाहिए.

Law 1 – खिलाड़ियों का रिप्लेसमेंट
एक नए क्लॉज लॉ 1.3 के मुताबिक, रिप्लेसमेंट खिलाड़ी के साथ ऐसा व्यवहार किया जाना चाहिए जैसे कि वे वही खिलाड़ी है, जिन्हें उन्होंने रिप्लेस किया था, जो उस मैच में खिलाड़ी द्वारा किए गए किसी भी प्रतिबंध या विकेट लेने के बारे में ही क्यों न हो.

Law 18 – नया बल्लेबाज आएगा क्रीज पर
एमसीसी के सुझाव पर इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड यानी ईसीबी द्वारा पहली बार द हंड्रेड लीग में ट्रायल किया गया, लॉ 18.11 को अब बदल दिया गया है, ताकि जब कोई बल्लेबाज कहीं भी कैच आउट हो जाए तो नया बल्लेबाज अगली गेंद का सामना करने के लिए स्ट्राइक पर आएगा। (जब तक कि यह एक ओवर का अंत न हो).

यह भी पढ़ें -  Weather Update: पर्वतीय इलाकों में तेज तूफानी हवा और बारिश से मिलेगी राहत, अगले 4 दिन ऐसा रहेगा मौसम

Law 20.4.2.12 – डेड बॉल
क्रिकेट के लॉ के नए एडिशन में डेड बॉल लॉ में कई बदलाव देखे गए हैं, जिनमें से सबसे महत्वपूर्ण डेड बॉल को कॉल करना है. मैच के मैदान में किसी व्यक्ति, जानवर या अन्य वस्तु से किसी भी पक्ष को नुकसान होता है, तो यह डेड बॉल करार दी जाएगी. पिच आक्रमणकारी से लेकर मैदान पर दौड़ने वाले कुत्ते तक, कभी-कभी बाहरी हस्तक्षेप होता है – यदि ऐसा है, और खेल पर इसका भौतिक प्रभाव पड़ता है, तो अंपायर कॉल करेंगे और डेड बॉल का संकेत देंगे.

Law 21.4 – गेंदबाज द्वारा रन आउट का प्रयास
यदि कोई गेंदबाज अपनी डिलीवरी स्ट्राइड में प्रवेश करने से पहले स्ट्राइकर को रन आउट करने के प्रयास में गेंद फेंकता है तो वह अब डेड बॉल होगी. यह एक अत्यंत दुर्लभ सेनेरियो है, जिसे अब तक नो बॉल कहा जाता रहा है.

Law 22.1 – वाइड जज करना
आधुनिक खेल में बल्लेबाज गेंदबाद के द्वारा गेंद को फेंकने से पहले कहीं अधिक क्रीज के चारों ओर मूव करते है. यह अनुचित महसूस किया गया था कि एक डिलीवरी को ‘वाइड’ कहा जा सकता है यदि वह उस जगह से गुजरती है जहां बल्लेबाज खड़ा था, क्योंकि गेंदबाज ने अपनी डिलीवरी स्ट्राइड में प्रवेश किया था. इसलिए, लॉ 22.1 में संशोधन किया गया है ताकि एक वाइड लागू हो जहां बल्लेबाज खड़ा है, जहां स्ट्राइकर किसी भी बिंदु पर खड़ा है, जब से गेंदबाज ने रन अप शुरू किया है और जो एक सामान्य बल्लेबाजी पोजिशन में स्ट्राइकर के पास भी होता.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड वन विभाग में हुई ऐसी तैनाती की उड़ गए सबके होश, खड़े हो रहे कई सवाल

Law 25.8 – स्ट्राइकर को गेंद खेलने का अधिकार
अगर गेंद पिच से दूर गिरती है तो भी नया लॉ 25.8 स्ट्राइकर को गेंद को खेलने की इजाजत देता है, जब तक कि उनके बल्ले या व्यक्ति का कुछ हिस्सा पिच के भीतर रहता है. अगर वे इससे आगे निकल जाते हैं तो अंपायर कॉल करेगा और डेड बॉल का संकेत देगा. बल्लेबाज के बदले में कोई भी गेंद जो उन्हें पिच छोड़ने के लिए मजबूर करेगी, उसे भी नो बॉल कहा जाएगा.

Laws 27.4 and 28.6 – फील्डिंग साइड का अनफेयर मूवमेंट
अब तक फील्डिंग टीम का कोई भी सदस्य जो गलत तरीके से चलता था, उसे केवल ‘डेड बॉल’ से दंडित किया जाता था और संभावित रूप से बल्लेबाज द्वारा पूरी तरह से अच्छे शॉट को कैंसिल कर दिया जाता था. यह देखते हुए कि ये काम अनुचित है और जानबूझकर किया गया है तो अब यह बल्लेबाजी टीम को 5 पेनल्टी रनों से सम्मानित करेगा.

Law 38.3 – नॉन-स्ट्राइकर का बाहर निकलना
लॉ 41.16 में ये प्रावधान किया गया है कि नॉन-स्ट्राइकर को रन आउट करना – लॉ 41 (अनुचित खेल) से कानून 38 (रन आउट) में स्थानांतरित कर दिया गया है. कानून की शब्दावली वही रहती है। जिस तरह आर अश्विन ने आईपीएल के एक मैच में जोस बटलर को नॉन-स्ट्राइक एंड पर आउट किया था. अब ये पूरी तरह से मान्य है.

यह भी पढ़ें -  देहरादून में एक ही दिन में हुई चैन स्नैचिंग की वारदातों का हुआ खुलासा, चार आरोपी गिरफ्तार

Law 41.3 – नो सलाइवा
जब कोविड -19 की शुरुआत के बाद क्रिकेट फिर से शुरू हुआ तो खेल के अधिकांश रूपों में प्लेइंग कंडीशन्स लिखी गई थीं, जिसमें कहा गया था कि गेंद पर लार (सलाइवा) लगाने की अब अनुमति नहीं है. एमसीसी के शोध में पाया गया कि गेंदबाजों को मिलने वाली स्विंग की मात्रा पर इसका बहुत कम या कोई प्रभाव नहीं पड़ा. खिलाड़ी गेंद को चमकाने के लिए पसीने का इस्तेमाल कर रहे थे और यह भी उतना ही प्रभावी था. नए कानून गेंद पर लार के उपयोग की अनुमति नहीं देंगे, क्योंकि गेंद पर अपनी लार लगाने के लिए खिलाड़ी सुगर वाले प्रोडेक्ट का इस्तेमाल करते हैं. ऐसे में लार का उपयोग उसी तरह किया जाएगा जैसे गेंद की स्थिति को बदलने के किसी अन्य अनुचित तरीके से किया जाता है.

एमसीसी के कानून प्रबंधक फ्रेजर स्टीवर्ट ने कहा, “क्रिकेट के नियमों के 2017 कोड के प्रकाशन के बाद से, खेल कई मायनों में बदल गया है. 2019 में प्रकाशित उस कोड का दूसरा संस्करण, ज्यादातर स्पष्टीकरण और मामूली संशोधन था, लेकिन 2022 कोड कुछ बड़े बदलाव करता है, जिस तरह से हम क्रिकेट के बारे में बात करते हैं जिस तरह से इसे खेला जाता है.

Continue Reading
Click to comment
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

More in उत्तराखंड

Like Our Facebook Page

Latest News