Connect with us

नक्कार खाने की तूती साबित हुई सीएम के खिलाफ बगावत की बात

उत्तराखंड

नक्कार खाने की तूती साबित हुई सीएम के खिलाफ बगावत की बात

देहरादून। जब-जब सरकार कोई पड़ाव तय करती है तो उसके कामों की समीक्षा होती है, स्वस्थ लोकतंत्र के लिए यह जरूरी भी है। अपेक्षाओं के पैमाने पर उसके कामकाज का आंकलन भी होता है। सरकार को सचेत भी किया जाता है, चुन-चुन कर कमियां भी निकाली जाती हैं और सवाल भी उछाले जाते हैं। मगर ऐसा नहीं होता कि सरकार हमेशा गलत और उसकी मंशा संदिग्ध ही हो। सरकार बहुत नहीं तो कुछ अच्छा भी कर रही होती है, कहीं न कहीं बदलाव भी हो रहा होता है और वह महसूस भी किया जा रहा होता है। मगर वह अनदेखा हो जाता है, उसकी कोई पड़ताल नहीं होती। अफसोस कि सरकार के कामों की निष्पक्ष समीक्षा करने के बजाय सिर्फ कमियां गिनाने पर अधिकांश लोगों का फोकस रहता है। हद तो तब हो जाती है जब सत्ताधारी पार्टी के विधायक भी विपक्ष की भाषा बोलने लगते हैं। हालांकि, सब जानते हैं कि दिल्ली दौड़ के पीछे ‘पावर गेम’ ही एकमात्र वजह होती है। वरना हर नाराज विधायक अपने विधानसभा क्षेत्र के विकास का रोडमैप और वहां वर्ष वार हुए विकास कार्यों की समीक्षा लेकर पार्टी हाईकमान के पास जाता। इस सिलसिले में बात चल पड़ी है तो आइए देखते हैं, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र को लेकर असल तश्वीर है क्या …

*3 साल में भ्रष्ट तंत्र पर कसी नकेल तस्वीर*

याद करिए कुछ साल पहले का समय। देहरादून और दिल्ली से लेकर देश के तमाम बड़ शहरों में उत्तराखंड के एजेंट हुआ करते थे। पांच सितारों होटलों की लॉबी में कहीं न उत्तराखंड का सौदा हो रहा होता था। कहीं जमीन की डील, कहीं शराब और खनन की सेटिंग, कहीं बड़े ठेकों का गणित तो कहीं सरकार की इमेज बाल्डिंग का सौदा हो रहा होता था। सत्ता के गलियारों में ब्रिफकेस वालों की धड़ल्ले से एंट्री होती थी, सरकार पर सिर्फ माफिया का दबदबा था। दखल भी थी। नीतियां शिक्षा की हो या शराब की हर क्षेत्र में माफिया केंद्र में था। मंत्री, विधायक, अफसर, हर कोई दोनो हाथों से लूट रहे थे।

यह भी पढ़ें -  Big news :-उत्तराखण्ड में 7 नई हेली सेवाओं का शुभारम्भ* *सीएम पुष्कर सिंह धामी और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किया फ्लैग ऑफ

*मुख्यमंत्री आवास व सचिवालय फोर्थ फ्लोर माफिया मुक्त*

जरा पीछे देखिए ना ! माफिया को राज्य में कौड़ियों के मोल जमीन देने का मसला हो या फिर पहाड़ पर शराब फैक्ट्रियां लगवाने का। सोलर प्लांटों के आवंटन का घपला हो या खनन के पट्टों और स्टोन क्रेसरों का खेल। उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम के घोटाले हों या ऊर्जा में नियुक्तियों और बिजली खरीद का घपला। हर बड़ा घपला-घोटाला पिछली सरकारों के कार्यकाल से जुड़ा है। यह सही है कि त्रिवेंद्र सरकार का अपेक्षाओं के पैमाने पर खरा उतरना अभी बाकी है, मगर त्रिवेंद्र को इस बात का श्रेय तो दिया जाना ही चाहिए कि आज हालात तीन साल पुराने नहीं हैं। कमियां बहुत हो सकती हैं, निसंदेह हैं भी, मगर अराजकता उतनी नहीं है। माफिया कोई भी हो, किसी भी क्षेत्र का हो आज सत्ता के गलियारों में उसकी एंट्री नहीं है। कम से कम सचिवालय का फोर्थ फ्लोर तो माफिया मुक्त हुआ ही है।

यह भी पढ़ें -  Big news :-राजमाता सूरज कुमार शाह का मुनिकीरेती स्थित पैतृक घाट पर अंतिम संस्कार किया गया

*अब नीतियां माफिया के इशारे पर नहीं बनतीं*

नीतियां अभी भले ही राज्य के अनुकूल न बन पा रही हों, नौकरशाहों पर निर्भरता ज्यादा हो मगर अब नीतियां माफिया के इशारे पर नहीं बनतीं। त्रिवेंद्र सरकार पर सवाल तो उठाए जा सकते हैं, बहुत से मुद्दे भी हैं लेकिन यह कम बड़ी बात नहीं कि तीन साल में एक भी बड़े घोटाले का आरोप सरकार पर नहीं है। सचिवालय के चतुर्थ तल पर अब बड़ी डील नहीं होती, यह ईमानदारी का प्रमाण कतई नहीं मगर यह बदलाव का संकेत जरूर है। सीधे शब्दों में कहा जाए तो त्रिवेंद्र शासन में सालों से चल रही तमाम पॉवर ब्रोकरों की दुकानें ठप हैं। आज भले ही महसूस न हो रहा हो लेकिन यह याद रखना चाहिए कि एक वक्त वह भी था जब जिलों में डीएम और कप्तान बनने की बोली लगने लगी थी। सत्ता के दरबार में मोटी थैलियां पेशगी देकर अहम पदों पर बैठे अफसर महज कलेक्शन एजेंट बने हुए थे। शिक्षा और स्वास्थ्य महकमा हो या फिर पीडब्लूडी जैसे इंजीनियरिंग महकमा हर जगह पोस्टिंग एक उद्योग बन चुका था। आज हालात काफी बदले हुए हैं। अपवाद स्वरूप कहीं चोरी चुपके पोस्टिंगों में लेन-देन चल रहा हो, लेकिन जिलों में डीएम, कप्तान व ऑफीसर्स की तैनाती का मानक साफ छवि है।उत्तराखंड जैसा छोटा राज्य जो भ्रष्टाचार के रोग से खोखला हो चुका है, वहां यह भी बहुत अहम है कि छोटे-छोटे कामों के लिए सुविधा शुल्क अब रंगदारी के तौर पर नहीं लिया जाता। इसका श्रेय भी आखिर सरकार को ही तो जाता है।

यह भी पढ़ें -  Big news :-31 मार्च 2022 तक अभ्यर्थियों से आवेदन शुल्क न लिये जाने का जीओ हुआ जारी , सीएम पुष्कर सिंह धामी ने की थी घोषणा

*कल अपने इसी कार्यकाल के लिए त्रिवेंद्र सराहे भी जाएंगे*

अपेक्षा के मुताबिक सरकार रोजगार नहीं दे पा रही है, यह सही है लेकिन यह भी तो सच है कि एक-आध मामलों को छोड़कर तीन साल में चोर दरवाजे नियुक्तियों पर प्रभावी अंकुश दिखा है। पहले तो शिकायत की सुनवाई ही नहीं थी, आज सीएम हेल्पलाइन पर ही सही कम से कम आप अपनी शिकायत तो दर्ज कर सकते हैं। आमजन की शिकायतों का निवारण भी हुआ है। यह सही है कि जनता की सरकार से अपेक्षाएं होती हैं और जब सरकारें उन पर खरी नहीं उतरती तो निश्चित तौर नाराजगी भी होती है। त्रिवेंद्र सरकार से भी अपेक्षाएं अपार हैं, इसलिए आने वाले बाकी के डेढ़ साल उनके लिए बड़ी चुनौती हैं। जहां तक उनके अब तक के कार्यकाल का सवाल है तो कई मायनों में उससे संतुष्ट हुआ जा सकता है। तय मानिये आज भले ही आलोचना का सामना करना पड़ रहा है लेकिन कल अपने इसी कार्यकाल के लिए त्रिवेंद्र सराहे भी जाएंगे।

Continue Reading
Click to comment
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

More in उत्तराखंड

Like Our Facebook Page

Latest News