Connect with us

सावधान! चारधाम में हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा देने के नाम पर धोखाधडी करने वाले गिरोह की गिरफ्तारी

उत्तराखंड

सावधान! चारधाम में हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा देने के नाम पर धोखाधडी करने वाले गिरोह की गिरफ्तारी

जहाँ एक तरह से साइबर पुलिस प्रतिदिन लोगों का पैसा वापस करा रही है वहीं भारत के अलग-अलग कोने में साइबर अपराधी की धरपकड़ करती हुई। STF एवं साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन उत्तराखण्ड द्वारा केदारनाथ हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा देने के नाम पर भारत के विभिन्न कोनो में धोखाधडी करने वाले गिरोह को बिहार से गिरफ्तार कर भारत के एक बहुत बड़े संगठित गिरोह को किया ध्वस्त।

वर्तमान में साइबर अपराधी आम जनता की गाढ़ी कमाई हड़पने हेतु अपराध के नये-नये तरीके अपनाकर धोखाधड़ी कर रहे है। इसी परिपेक्ष्य में ठगों द्वारा पर्यटन के नाम पर फर्जी साइट तैयार कर आम जनता से ई-मेल व दूरभाष व अन्य सोशल साईटों के माध्यम से सम्पर्क कर केदारनाथ हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा देने के नाम पर लाखों रुपये की धोखाधडी की जा रही है।

इसी क्रम में एक प्रकरण साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन को प्राप्त हुआ जिसमें शिकायतकर्ता प्रशान्त यादव पुत्र दिलीप कुमार के साथ अज्ञात अभियुक्तो द्वारा केदारनाथ यात्रा हैलीकॉप्टर सेवा देने के नाम पर फर्जी मोबाईल नम्बरों से शिकायतकर्ता से सम्पर्क कर ऑनलाईन हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा बुक कराने के नाम पर शिकायतकर्ता से 1,18,000/- रुपये की धनराशि धोखाधड़ी से विभिन्न बैक खातो में प्राप्त करने सम्बन्धी शिकायत के आधार पर साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन देहरादून पर मु0अ0सं0 11/22 धारा 420 भादवि व 66(डी) आईटी एक्ट का अभियोग पंजीकृत किया गया तथा विवेचना साइबर थाने के निरीक्षक श्री विकास भारद्वाज के सुपुर्द की गयी।

यह भी पढ़ें -  चारधाम यात्रा के लिए पंजीकरण कराना हुआ अनिवार्य, ऋषिकेश में रोके जाएंगे

अभियोग में अभियुक्तों के विरुद्ध कार्यवाही हेतु घटित टीम द्वारा घटना में प्रयुक्त मोबाईल नम्बर, तथा अभियुक्तो द्वारा शिकायतकर्ता से प्राप्त धनराशि की जानकारी प्राप्त की गयी तो प्रकाश में आया कि अभियुक्तो द्वारा केदारनाथ हैलीकॉप्टर यात्रा देने के नाम वादी मुकदमा से धोखाधडी की गयी । मोबाईल नम्बर व खातों की जानकारी से अभियुक्तगणों का बिहार से सम्बन्ध होना पाया गया जिसमें टीम को बिहार रवाना किया गया।

पुलिस टीम द्वारा अथक मेहनत एवं प्रयास से अभियुक्तो द्वारा वादी मुकदमा को रोजर पे का खाता संख्या व मोबाईल नम्बर दिये थे व धोखाधडी से प्राप्त की गयी धनराशि जो एसबीआई खाता व रोजर पे खाता में प्राप्त की गयी थी के खाताधारक की जानकारी प्राप्त की गयी व उक्त खाते का खाताधारक के सम्बन्ध में साक्ष्य एकत्रित करते हुये अभियोग में 01 अभियुक्त सेन्टी कुमार उर्फ विकास कुमार को उसके निवास स्थान ग्राम धनबिगहा बिहार से गिरफ्तार करते हुये स्थानीय पुलिस की मदद से अन्य अभियुक्त व निक्कु कुमार जो कि थाना वारिसलीगेज जनपद नवादा बिहार के अभियोग में वांछित होने के कारण स्थानीय पुलिस को सुपुर्द किया गया। अभियुक्तों से घटना में प्रयुक्त (05) मोबाईल फोन 07 एटीएम कार्ड 01 भारतीय क्यूआर कोड, राउटर, सिम कार्ड विभिन्न बैंको की पास बुक व चैक बुक माईक्रो एटीएम कार्ड व नगदी बरामद किये गये। अभियुक्त निक्कु कुमार उपरोक्त थाना वारिसलीगंज जनपद नवादा बिहार के अभियोग में वांछित होने के कारण अभियुक्त को बी वारण्ट पर तलब कर आवश्यक वैधानिक कार्यवाही की जायेगी। उक्त गिरोह को धवस्त करने पर बिहार पुलिस द्वारा उत्तराखण्ड पुलिस की भूरी-भूरी प्रशंसा की गयी है।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: ‍उत्तरकाशी में यमुनोत्री हाईवे पर भूस्खलन, 4200 तीर्थयात्री फंसे

अभियुक्तगणों द्वारा फर्जी साईट तैयार कर फर्जी नम्बरों को गूगल पर डाला जाता था, जिससे पिड़ित व्यकित द्वारा केदारनाथ हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा को लेने हेतु गूगल से नम्बर सर्च कर फोन के माध्यम से सम्पर्क किया जाता व अभियुक्तगणों द्वारा Wi-Fi राउटर को पेड़ पर टांगकर हैलीसेवा लेने वाले व्यक्तियों को इन्टरनेट कॉलिंग के माध्यम से कॉल कर रेट लिस्ट के आधार पर हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा बुक की जाती थी तथा शिकायतकर्ता से धोखाधड़ी कर धनराशि विभिन्न वॉलेट व खातों में प्राप्त की जाती है। शिकायतकर्ता से प्राप्त उक्त धनराशि को एटीएमों के माध्यमों से निकाल लिया जाता था ।

यह भी पढ़ें -  जरूरी खबर: उत्तराखंड बोर्ड का रिजल्ट होने वाला हैं जारी, जानिए कैसे चेक करे रिजल्ट

गौरतलब है कि इससे पूर्व भी पर्यटन की आड़ में माँ वैष्णो देवी हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा देने के नाम पर साइबर अपराधियों द्वारा फर्जी साइट तैयार कर पवन हंस हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा बुक कराने के नाम पर धोखाधड़ी से सम्बन्धित दो अभियुक्तों को नालन्दा, नवादा बिहार से गिरफ्तार किया गया था। जिससे प्रतीत होता है कि नवादा बिहार हैली सेवा व अन्य विभिन्न माध्यमों से साइबर धोखाधड़ी देने वाला गढ़ बन चुका है जिसे ध्वस्त किया जा रहा है।

Continue Reading
Click to comment
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

More in उत्तराखंड

Like Our Facebook Page

Latest News